VIDEO: छोटी उम्र में बड़ा कारनामा, हाथ बांधकर पार कर गए नदी

0
3



हौसलों की उड़ान कभी नाकामयाब नहीं होती, बस जीतने का जज्बा और कामयाबी का जुनून चाहिए. छोटी सी उम्र में इन नन्हे उस्तादों ने जो कमाल दिखाया है, वो हर किसी को ये कहने पर मजबूर कर दे रही है कि OMG! अजब-गजब है मेरी इंडिया.

इनका कारनामा देकने के बाद बड़े-बड़े लोग इन्हें सलाम पेश करने के लिए मजबूर हो गए हैं. कोच्चि के इन दो बच्चों ने ऐसा हौसला दिखाया कि इनके जोश के आगे बड़ी से बड़ी नदी भी हार मान ले. हौसलों के आगे कैसे हर दरिया छोटा पड़ जाता है. ये साबित कर दिखाया है कोच्चि के इन भाई-बहनों ने.

दोनों ने छोटी उम्र में वो बड़ा कारनामा कर दिखाया है कि आज हर शख्स इन्हें सलाम कर रहा है. स्विमिंग में खतरा नहीं बल्कि मजा है, इस बात को समझाने के लिए हिशाम और शीमा ने भरी भीड़ के सामने पेरियार नदी में छलांग लगाई वो भी नदी में कूदने से पहले अपने दोनों हाथ बांध कर.

वहां मौजूद बड़े भी बने इन बच्चों के कारमाने के गवाह. मौजूद लोगों ने स्विमिंग के दौरान हिशाम और शीमा का खूब हौसला बढ़ाया.

हालांकि शुरुआत में बच्चों के पिताजी नदी का नाम सुनते ही घबरा गए लेकिन कोच के भरोसे ने पिता का कॉन्फिडेंस भी बढ़ा दिया. 5 साल के हिशाम और 8 साल की शीमा के पेरियार नदी पार करके लोगों को ये संदेश दिया कि स्विमिंग काफी आसान है. इनका मुख्य मकसद दूसरों को स्विमिंग के प्रति जागरुक करना है.

पहली बार जब बच्चों को स्विमिंग के लिए ले जाया गया. तब उनके पिता भी नदीं में स्विमिंग के नाम से डर गए थे. बाद में कोच साजी और परिवार के सहयोग से बच्चों ने ये सफलता प्राप्त की तो पिता खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं.

पांच साल का हिशाम एलकेजी में पढ़ता है, जबकि उसकी बहन तीसरी क्लास की स्टूडेंट है. लेकिन इन्होंने जो कारनामा कर दिखाया है, वो बड़ों के सलाम के साथ-साथ इनाम और तालियों का हकदार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here