IPL 2018 : Sunil Gawaskar unhappy with time wasting habit of Captains, eyes on Empires for change

0
5


नई दिल्ली : आईपीएल के वर्तमान सीजन की सभी टीमों के तीन तीन मैच हो चुके हैं. ज्यादातर मैचों के परिणाम काफी करीबी होने से इस बार टूर्नामेंट काफी रोमांचक बन पड़ा है. पूरे टूर्नामेंट में गेंदबाज और बल्लेबाज दोनों ही सफल रहे हैं. जिसके वजह से मुकाबले एक तरफा होने से बचे हुए हैं. हालांकि अभी पॉइंट टेबल में हैदराबाद टॉप पर है और मुंबई की टीम सबसे नीचे हैं. लेकिन अभी हर टीम के 11-11 मैच बाकी होने से कोई भी बात नतीजे के तौर पर नहीं कही जा सकती. यही इस टूर्नामेंट की खासियत है. 

भारतीय क्रिकेट के महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर भी इस बार आईपीएल से काफी खुश हैं. गावस्कर ने अपनी यह खुशी ने एक अंग्रेजी अखबार के अपने कॉलम में जाहिर करते हुए गेंदबाजों और बल्लेबाजों की तारीफ की है. इसके अलावा गावस्कर का मानना है कि इस बार टूर्नामेंट में पिच  खास रोल रहा है. गावस्कर ने सभी पिचों को ‘टॉप क्लास’ करार देते हुए कहा है कि इन पिचों पर क्रिकेट के किसी भी फॉर्मेट के मैच खेले जा सकते हैं. गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है जबकि बल्लेबाजों ने भी मैच में जोरदार शॉट्स लगाए हैं.’

लेकिन इन अच्छी बातों के अलावा गावस्कर कुछ बदलाव भी चाहते हैं. ये बदलाव कप्तानों के रवैये को लेकर हैं.  गावस्कर को लगता है कि इन बदलावों में अंपायर्स की भूमिका महत्वपूर्ण होने वाली है. 

IPL 2018 : देखें क्या हुआ जब युवराज ने धोनी के सर पर फेरा प्यार से हाथ

दर्शकों के बारे में गावस्कर ने कहा है कि इस टी—20 टूर्नामेंट कई अवसरों पर क्रिकेट फैन्स के दिलों को छू लेने वाले पल आए. गावस्कर ने इसे उन दर्शकों के लिए अहम बताया जो सब कुछ फास्ट फॉरवर्ड में देखना चाहते हैं. इसके साथ ही इस सीजन में तेज बॉलिंग, टॉप क्लास की स्पिन बॉलिंग, आक्रामक बल्लेबाजी के अलावा कई क्रिएटिव शॉट्स भी खेले गए हैं. आक्रामक खेल ने दर्शकों को, फिर चाहें वो मैदान में हों या फिर टीवी के सामने, खूब रोमांचित किया है. पिच का टॉप क्लास होना भी क्रिकेट की क्वालिटी सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.’

कप्तान इस तरह कर रहे हैं समय खराब
गावस्कर ने अपने लेख में कई कमियों का उल्लेख किया है जिनको लेकर वे आईपीएल में भी बदलाव चाहते हैं उनके मुताबिक मैच के दौरान कप्तान के रवैये की वजह से ओवररेट पर फर्क पड़ता है. गावस्कर को लगता है कि इस सीजन कप्तान अपनी रणनीति बनाने के लिए जरूरत से ज्यादा समय का इस्तेमाल कर रहे हैं. गावस्कर ने इन कप्तानों में खास तौर पर रवि आश्विन और दिनेश कार्तिक का नाम लिया गौरतलब है कि दोनों ही पहली बार आईपीएल में कप्तानी कर रहे हैं. 

IPL 2018 : जब धोनी लगा रहे थे छक्के, फैन ने कर दिया साक्षी को प्रपोज

गावस्कर इस मामले में अंपायर्स की भूमिका को खास मानते हैं. उनके अनुसार अंपायर्स की ये जिम्मेदारी बनती है कि वे कप्तान को जरूरत से ज्यादा वक्त लेने से रोकें. इस रुकावट से खेल की गति पर फर्क पड़ता है. कप्तान जो समय रणनीति बनाने में लगाते हैं, वह समय दर्शकों के काम का नहीं होता है. दर्शक मैदान में हर वक्त एक्शन देखना चाहता है. गावस्कर लिखते हैं कि वह खुद भी उन दर्शकों में से एक हैं जो खिलाड़ी से ज्यादा पारी के आखिरी ओवर की आखिरी गेंद की चिंता करते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here