हिंदी न्यूज़ – क्या एलियन हमसे दोस्ती करना चाहते हैं

0
7


क्या एलियन हमसे दोस्ती करना चाहते हैं...

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि एलियन इंसान से दोस्ती करना चाहते हैं

News18Hindi

Updated: April 5, 2018, 2:36 PM IST

एलियन होते हैं या नहीं होते हैं. और अगर होते हैं तो उनकी नियत क्या है. क्या वो हमारी पृथ्वी पर कब्ज़ा जमाना चाहते हैं या फिर दरअसल वह दिल के बहुत अच्छे होते हैं या फिर यह सब कुछ एक बड़ी साज़िश का हिस्सा है. यह सवाल एक बार फिर तब उठा जब स्पेस पर नज़र रखने वाले एक सिद्धांतवादी ने पृथ्वी के आसपास सात UFOs को मंडराते हुए देखने का दावा किया. इन वैज्ञानिक का यह भी कहना है कि इन यूएफओ में सवार एलियन दरअसल इंसानों से दोस्ती बढ़ाना चाहते हैं. वैसे ये संदिग्ध स्पेसक्राफ्ट इंटरनेशनल स्पेस सेटंर की एक लाइव स्ट्रीमिंग के दौरान दिखाई दिए हैं. इस पूरे घटनाक्रम को देखकर सिद्धांतवादी का दावा है कि अगले 15 सालों में इसांन और एलियन का आमना सामना हो सकता है.

यूएफओ को ट्रैक करने वाले इस अज्ञात वैज्ञानिक ने अंग्रेजी वेबसाइट डेली स्टार से कहा है कि एलियन आ गए हैं और वो जल्द हमसे मुलाकात करने वाले हैं. खुद को ग्राहम नाम से बुलाने वाले इस वैज्ञानिक का कहना है कि एलियन्स की मौजूदगी दुनिया भर में बढ़ती जा रही है. हम पर नज़र रखी जा रही है और एलियन हमारी पलक झपकते ही छुट्टी कर सकते हैं. लेकिन हम अभी भी जिंदा हैं, इसका मतलब यह है कि वो यहां हमें बर्बाद करने नहीं, हमारी मदद करने आए हैं. ग्राहम नाम के यह वैज्ञानिक को एलियन से इतनी ज्यादा उम्मीद है कि उन्हें यह भी लगता है कि शायद एलियन हमारी अन्य दुश्मनों से रक्षा कर रहे हैं.

ufo, alien, iss, international space ship

पिछले कुछ सालों से यूएफओ के देखे जाने की खबरों ने जोर पकड़ा है

हालांकि ग्राहम की तरह यह मानने वालों की दलील से कई वैज्ञानिक सहमत नहीं हैं कि लाइव स्ट्रीमिंग के दौरान जो अज्ञात वस्तु दिखाई दी थी, वह यूएफओ ही थी. कई जानकारों का कहना है कि यह चीनी स्पेस स्टेशन तियांगोंग के टुकड़े भी हो सकते हैं जो हाल ही में दक्षिण प्रशांत में जाकर गिरा है. यही नहीं, और भी कई वजहें हैं जिसकी बदौलत स्पेस स्टेशन के फुटेज में वो अज्ञात चीज़ दिखाई दी होगी. जैसे कि बिजली का चमकना या किसी भी तरह की रोशनी, या फिर स्पेस स्टेशन की खिड़की की छाया से भी यह हो सकता है.आगे बढ़ने से पहले बता दें कि इंटरनेशन स्पेस स्टेशन दरअसल 10 हजार करोड़ डॉलर की साइंस और इंजीनियरिंग लैब है जो पृथ्वी के ऊपर 400 किमो का चक्कर लगाती है. नवंबर 2000 से यहां अलग अलग अंतरिक्ष यात्री अपने दल के साथ डेरा जमाकर बैठते हैं. फिलहाल यह स्पेस स्टेशन दो रूसी, तीन अमेरिकी और एक जापानी का घर है. यहां होने वाली रिसर्च अक्सर कम ग्रैविटी या कम ऑक्सिजन जैसे असामान्य हालात में की जाती है. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन ने स्पेस मेडिसिन, जीव विज्ञान, मानव शोध, अंतरिक्ष शोध जैसे तमाम तरह के मामलों पर जांच की है. अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा हर साल, स्पेस स्टेशन प्रोग्राम में करीब 300 करोड़ डॉलर खर्च करता है.

जहां तक इंसानों की बात है तो अमेरिका में किए गए एक शोध से पता चलता है कि दोस्ती हमें भी करनी है. शोध में प्रतिभागियों को एलियन से जुड़ी एक काल्पनिक खबर के बारे में बताया गया. इसके मुताबिक एलियन के होने की ख़बर को सच बताया गया. इस जानकारी पर प्रतिभागियो की प्रतिक्रिया काफी सकारात्मक थी, और ज्यादातर ने किसी बुद्धिमान बाहरी जीव के आसपास होने की खबर का स्वागत किया था. यानि हॉलीवुड फिल्मों में एलियन को चाहे कितना भी अजीब और दुश्नन की तरह दिखाया गया हो, इंसान उसके होने को लेकर काफी उत्साहित नज़र आ रहे हैं.

IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Knowledge News in Hindi यहां देखें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here