हिंदी न्यूज़ – किस किसको मारना है, तय करने के बाद सब पर रखी नज़र

0
1


31 मई 2018 की शाम जैसे ही आॅफिस से बाहर निकला स्टीव तो एक आदमी हड़बड़ाता हुआ उसके पास आया. इससे पहले कि स्टीव कुछ समझ पाता, वह आदमी उसके साथ गाली-गलौज करने लगा और तेज़ आवाज़ में उसे कोसने लगा. स्टीव ने उसे शांत होकर बातचीत करने की समझाइश दी लेकिन अगले ही पल उस आदमी ने .22 बोर की पिस्तौल निकाली और स्टीव पर गोलियां दागकर फौरन भाग गया.

कौन था स्टीव? अमेरिका का एक हाई प्रोफाइल मनोवैज्ञानिक जो कई बड़े आपराधिक मामलों में छानबीन करने के कारण मशहूर था. 1996 के चर्चित जोन बेनेट केस के साथ ही बेसलाइन किलर केस में भी स्टीव के इनपुट्स महत्वपूर्ण माने गए थे. 59 साल का स्टीव कई मामलों में अपनी स्टडी और विश्लेषण के कारण चर्चा में रह चुका था. अब स्टीव अचानक मारा गया या यह इस हमले के पीछे कोई प्लैनिंग थी? इन सवालों के जवाबों के लिए करीब 8 साल पीछे लौटना पड़ेगा जब इस कहानी की शुरुआत हुई.

2010 में एक अदालत में चल रहे एक तलाक के मामले में स्टीव ने एक बयान पेश किया था –

पति पत्नी के बीच तलाक की कार्यवाही के दौरान जोन्स में उग्र बेचैनी, मूड डिसॉर्डर दिखाई दिए और ऐसे लक्षण भी नज़र आए कि जिसके आधार पर कहा जा सकता था कि वह पागलपन का शिकार भी है. जोन्स ने किसी किस्म का पछतावा होना नहीं कबूला और न ही उसने सामाजिक कायदों को तरजीह दी बल्कि उसने आक्रामक ढंग का बर्ताव किया.

स्टीव के इस बयान को महत्वपूर्ण मानते हुए अदालत ने तलाक के इस मामले में बच्चे की पूरी कस्टडी जोन्स की पत्नी कॉनी को दे दी थी. कॉनी ने घरेलू हिंसा को आधार बनाकर तलाक मांगा था और उसका आरोप था कि जोन्स उसे बुरी तरह पीटता था. जोन्स ने उसका सिर दीवार से फोड़ दिया था और घर में ही उसे जान से मार डालने की धमकी तक दी थी. कॉनी की शिकायत के बाद जोन्स को 2009 में जेल भी भेजा गया था और 2010 में दोनों का तलाक हो गया.

अमेरिका हत्याकांड, पत्नी के लिए कत्ल, हाई प्रोफाइल हत्या, मर्डर मिस्ट्री, खुदकुशी, US murder case, murder for wife, high profile murders, murder mystery, suicide

मनोवैज्ञानिक स्टीवन पिट

तलाक के बाद कॉनी ने दूसरी शादी रिचर्ड से कर ली. इधर, तलाक से दुखी जोन्स जेल से छूटने के बाद बरसों से पल रहे गुस्से को अंजाम देने के लिए उतावला था. जोन्स ने अपने तलाक के दौरान हुई कोर्ट कार्यवाही के पूरे कागज़ात खंगाले और अपने निशानों के नाम तय किए. जोन्स ने कई दिनों की मशक्कत के बाद अपने निशानों के ठिकाने और उनके आने-जाने के टाइम पर निगाह रखी.

एक के बाद एक कत्ल

इसी बीच, एरिज़ॉना के एक घर से जोन्स ने एक पिस्तौल चुराई. 31 मई 2018 यानी गुरुवार को जोन्स पहुंचा फाउंटेन हिल्स के उस इलाके में जहां स्टीव का आॅफिस था. शाम करीब साढ़े पांच बजे स्टीव के बाहर आते ही जोन्स ने उसके साथ गाली-गलौज की और कुछ ही पलों बाद स्टीव पर गोलियां दागीं. स्टीव के ज़मीन पर गिरते ही जोन्स फरार हो गया. स्टीव की मौत के तुरंत बाद तफ्तीश शुरू हो गई. सीसीटीवी और चश्मदीदों के आधार पर कातिल का सुराग जानने की कोशिश जारी थी.

24 घंटों के भीतर यानी शुक्रवार की दोपहर करीब सवा दो बजे जोन्स ने पहले एक आॅफिस के बाहर वेलेरिया और लॉरा का इंतज़ार किया. वेलेरिया और लॉरा ने तलाक के समय जोन्स की बीवी कॉनी की तरफ से कानूनी कार्यवाही को अंजाम दिया था. जैसे ही वेलेरिया बाहर निकली, जोन्स ने सीधे उसके सिर में गोली दागी. फिर वह उस आॅफिस के अंदर गया और लॉरा के सीने में गोली मारकर भाग गया. इसके बाद उसका अगला निशाना था एक वकील.

अमेरिका हत्याकांड, पत्नी के लिए कत्ल, हाई प्रोफाइल हत्या, मर्डर मिस्ट्री, खुदकुशी, US murder case, murder for wife, high profile murders, murder mystery, suicide

शुक्रवार की रात साढ़े 11 बजे तक पुलिस को पता चल चुका था कि लॉरा, वेलेरिया और स्टीव की हत्या एक ही पिस्तौल से चली गोलियों से हुई है. चश्मदीदों के बयान के हिसाब से एक स्केच भी पुलिस के पास था. करीब 12 बजे शुक्रवार व शनिवार की दरम्यानी रात पुलिस को खबर मिली कि एक वकील मार्शल की हत्या कर दी गई है. रात में मार्शल के आॅफिस के पास ही जोन्स ने उसे गोली मारी थी.

मार्शल की हत्या जोन्स गलती से कर बैठा क्योंकि मार्शल के इस आॅफिस में पहले एक और वकील का आॅफिस था जिसने तलाक के वक्त जोन्स के बेटे की कस्टडी के मामले में कॉनी का साथ दिया था. अब जोन्स को पता था कि उसने जिन लोगों को मारा है, वो सभी लगभग हाई प्रोफाइल हैं इसलिए बहुत जल्दी इस मामले में छानबीन किसी नतीजे तक पहुंच जाएगी.

अब क्या रह गया था ज़िंदगी में?

इन कत्लों को अंजाम देने के बाद जोन्स स्कॉट्सडेल के एक होटल में पहुंचा जहां उसने एक कमरा पहले से बुक कर रखा था. अपने कमरे में पहुंचने के बाद जोन्स का गुस्सा धीरे-धीरे शांत हुआ. अब 56 साल के जोन्स को महसूस हुआ कि कॉनी तो पहले ही जा चुकी, उसका बेटा भी उसके साथ नहीं है. इतनी हत्याओं को अंजाम दे चुका है इसलिए आज नहीं तो कल पुलिस उसे पकड़ ही लेगी. जोन्स की ज़िंदगी का कोई मकसद अब बाकी नहीं रह गया था.

अमेरिका हत्याकांड, पत्नी के लिए कत्ल, हाई प्रोफाइल हत्या, मर्डर मिस्ट्री, खुदकुशी, US murder case, murder for wife, high profile murders, murder mystery, suicide

इन कत्लों को अंजाम देने के बाद 4 जून को जोन्स इस नतीजे पर पहुंच चुका था कि अब जीने की कोई वजह उसके पास नहीं है. इधर, पुलिस को कातिल का सुराग लगभग मिल चुका था और वह स्कॉट्सडेल के उस होटल में पहुंच गई थी. होटल के रिसेप्शन से जोन्स के कमरे का पता लेकर पुलिस तैयारी के साथ उस कमरे की तरफ बढ़ी. कमरे के बाहर खड़े पुलिस अफसर ने दूसरे अफसर को दरवाज़ा तोड़ने का इशारा किया.

दरवाज़ा तोड़ने के लिए जैसे ही अफसर ने काउंटिंग शुरू की, वैसे ही कमरे के अंदर से गोली चलने की आवाज़ आई. दो पल के लिए ठिठक जाने के बाद पुलिस ने कमरे का दरवाज़ा तोड़ा और अंदर दाखिल होते ही देखा कि जोन्स ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी.

कुछ सवाल और कुछ थ्योरीज़

अब यह सवाल ही रह गया कि जोन्स ने इतने सालों बाद उन लोगों का कत्ल क्यों किया जो उसके तलाक के केस से जुड़े हुए थे. अस्ल में, इन तमाम हत्याओं के पीछे जोन्स के होने की थ्योरी पुलिस को कॉनी के दूसरे पति रिचर्ड ने दी. जांचकर्ता की भूमिका से रिटायर होने वाले रिचर्ड ने पुलिस को बताया था कि मारे गए सभी लोग किसी न किसी तरह से जोन्स और कॉनी के तलाक केस से जुड़े हुए थे इसलिए जोन्स हत्यारा हो सकता है.

तो कहानी खत्म ऐसे हुई कि जीवन भर अनसुलझे अपराधों और अपराधियों की गुत्थियां सुलझाने की कोशिश करने वाले एक मनोवैज्ञानिक की हत्या हो गई. और यह हत्या भी फिलहाल कई सवालों के चलते एक उलझी हुई गुत्थी ही बन गई है. दूसरी बात यह है कि चार नहीं छह कत्ल हुए थे. जिस घर से जोन्स ने पिस्तौल चुराई, वहां रहने वाले पति पत्नी भी उसी दिन मारे गए. थ्योरी है कि उन्हें जोन्स ने ही मारा होगा लेकिन सवाल यही है कि वास्तविकता क्या है.

ये भी पढ़ेंः
‘हद पार कर चुका था J Dey, उसका मरना ज़रूरी था’ : छोटा राजन
Love Story: जब तक मिलने पहुंचती शहज़ादी, मारा जा चुका था अंकित
दुबई में ब्याही इस लड़की को वेश्यावृत्ति में धकेलना चाहता था पति
जिनकी दम पर 11 साल ब्लैकमेलिंग की, वो अश्लील तस्वीरें हैं कहां?
‘बस रिझाओ और खुश करो, खबरदार Customer से प्यार किया तो’

Gallery – Pakistan से सामिया ने भेजा था Text – “दुआ करो मैं ज़िंदा लौट सकूं”



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here