हिंदी न्यूज़ – कठुआ रेप केस : पीड़ित बच्ची के सपोर्ट में उठी बॉलीवुड की आवाज़ | Kathua rape case : bollywood speaks in favor of 8 yr old child asifa

0
4


​कठुआ रेप और मर्डर केस में बॉलीवुड से आवाज़ उठी है 8 साल की मासूम के पक्ष में और कई सितारे सोशल मीडिया के ज़रिये अपनी भावनाओं का इज़हार कर रहे हैं. ज़्यादातर सेलिब्रिटीज़ का मानना है कि यह देश के लिए सही समय है कि मासूम के सपोर्ट में खड़े हों और सामाजिक बुराइयों के खिलाफ नज़र आएं.

कठुआ रेप और मर्डर केस में राजनीति और बवाल होने के बाद बॉलीवुड के कई सेलिब्रिटीज़ ने अपने सोशल मीडिया हैंडल से इस मामले पर अपनी राय रखी है.

अक्षय कुमार :

एक समाज के तौर पर हम फिर नाकाम हुए. जैसे जैसे मासूम का केस सामने आ रहा है और सनसनीखेज़ खुलासे हो रहे हैं, कोई ​कैसे आपे में रह सकता है. उसका मासूम चेहरा मेरी नज़रों से हट नहीं रहा. इंसाफ होना चाहिए, तुरंत और कठोर.

सोनाली बेंद्रे :

शेम. मानवता से जुड़े एक मामले को धार्मिक और राजनीतिक रंग देने पर हमें खुद पर शर्म आनी चाहिए. हमें शर्म आनी चाहिए कि इस दरिंदगी भरे अपराध पर हमारी आंखें तब खुलीं जब दुनिया का मीडिया इसे रोशनी में लाया. अपने देश की लड़कियों की रक्षा करने में नाकाम होने पर हमें शर्म आनी चाहिए.

राजकुमार राव :

यह डरावने से भी ज़्यादा दर्जे का अपराध है. अगर कोई भी होश में है तो कैसे उन दरिंदों की पैरवी में कुछ भी कह सकता है?

शर्मिष्ठा मुखर्जी :

पूरी चेतना डगमगा गयी है और शब्द काफी नहीं पड़ रहे. इस वीभत्स अपराध के और जिन्होंने यह अपराध किया है, उनके खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाना चाहिए.

करण जौहर :

अमानवीय!! डरावना!! इंसाफ होना ही होना ही चाहिए.

फराह खान :

जो चुप हैं, वे भी उतने ही दोषी हैं जितने ये अपराध करने वाले.

फरहान अख्तर :

अगर आप उस बच्ची का दर्द और डर नहीं समझ सकते तो आप इंसान नहीं हैं.

सोनम कपूर :

फेक राष्ट्रवादियों और फेक हिंदुओं की यह हरकत शर्मसार करने वाली है.

रीतेश देशमुख :

जो सही है उसके लिए खड़े हों, भले ही आप अकेले खड़े हों.

अर्जुन कपूर :

सरकार चुप है और इसके नुमाइंदे न तो महिलाओं की इज़्ज़त करते हैं या न जीवन की.

प्रीति ज़िंटा :

मेरे लिए मानवता पहले है और धर्म से बड़ी है.

चेतन भगत :

अगर आप उस 8 साल की बच्ची के दोषियों के खिलाफ नहीं हो सकते तो आप भारत के नेता नहीं हो सकते.

आयुष्मान खुराना :

एक बच्ची सिर्फ प्यार की हकदार है और बलात्कारी सिर्फ सज़ा के, इसमें धर्म, जाति या रंग का कोई मतलब नहीं है.

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले अभिनेत्री रिचा चड्ढा ने इस मामले में बेबाक राय रखी थी और वह पहली बॉलीवुड सेलिब्रिटी बनी थीं जिन्होंने मासूम पीड़िता के पक्ष में सोशल मीडिया के ज़रिये अपनी भावनाओं का इज़हार किया था.

यह भी पढ़ें :

Friday Fever : इसलिए जरूरी है अप्रैल में ‘अक्टूबर’ देखना, मर्करी और रैम्पेज आपकी जिम्मेदारी



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here