देखते ही देखते सैलाब में समा गई जिंदगी

0
2



कभी-कभी मस्ती और मनोरंजन में मौत दबे पांव चली आती है और किसी को भनक तक नहीं लगती. उस झरने में में पानी नहीं मौत की धारा बह रही थी, लेकिन सारे दोस्त बेखौफ थे मौत की दस्तक से. तभी कुछ ऐसा हुआ कि मस्ती का आलम मातम में बदल गया. चारों तरफ दिल को चीरने वाले चीखें गूंजने लगीं. पानी में बहती मौत उसे धीरे-धीरे अपने आगोश में लेने लगी और असहाय बनकर दोस्त उसकी मौत का तमाशा देखते रहे. वो आहिस्ता-आहिस्ता मौत की तरफ बढ़ रहा था और सभी दोस्त बेबस, मायूस और लाचार बने रहे. ये घटना है कर्नाटक के मैसूर की. दोस्तों को पानी में पिकनिक बहुत भारी पड़ा. सभी दोस्त अपने साथी को मौत के भंवर में बेहते हुए देख रहे थे. लेकिन कुछ देर पहले यहां मौत का मंजर नहीं बल्कि मस्ती भरा महौल था. कुछ दोस्त झरने में नहाने का मजा ले रहे थे, लेकिन तभी तेज धार में एक दोस्त बहने लगा और देखते ही देखते धारा उसे जिंदगी से दूर मौत के पास बहा ले गई. झरने के सैलाब ने एक जिंदगी की सांसें रोक दी. वो बदकिस्मत पानी के तेज बहाव में बह गया, किनारे खड़े लोग केवल बचाओ-बचाओ चिलाते रहे. देखते ही देखते सैलाब में समा गई एक जिंदगी और पिकनिक की मस्ती मातम में तब्दील हो गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here